खेल/मनोरंजन

खट्टी मीठी यादों के साथ विधिवत समापन हो गया गौचर मेले का

-दिग्पाल गुसाईं की रिपोर्ट –

गौचर, 20 नवंबर। रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों व पुरस्कार वितरण के साथ सात दिवसीय गौचर मेले का खट्टी मीठी यादों के साथ विधिवत समापन हो गया है।

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु के जन्मदिन से शुरू हुए गौचर मेले का सोमवार को सात दिन बाद अलविदा गौचर मेला अगले साल फिर मिलेंगे के साथ समापन हो गया है। इस अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले विजेता, उपविजेताओं के साथ ही फुटबॉल मैच के विजेता रहे बिष्ट इलेवन देहरादून को 51 हजार की नगद धनराशि के साथ ही शिल्ड तथा उपविजेता रही

स्पोर्ट्स कालेज देहरादून को 41 हजार की नगद धनराशि व शील्ड देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि बदरी केदार के पूर्व अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि मेले हमारी संस्कृति के प्राण हैं। इनको संरक्षित किया जाना आवश्यक है। मेले इतिहास पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह मेला शुरुवाती दौर में अंतरराष्ट्रीय स्तर का था 60 के दशक में पड़ोसी देश के साथ हुई अनबन के बाद इसका स्वरूप राष्ट्रीय तथा अब राज्य स्तर का हो गया है। उन्होंने कहा का इस मेले की सार्थकता तभी होगी जब उत्तराखंड में निर्मित सामान यहां बिकने लगेगा। इसके लिए दीर्घकालीन योजना बनाने की आवश्यकता है।

इस अवसर पर स्वर्गीय बीना भंडारी व मणिपुर की घटना को याद करते हुए कहा कि जिन लोगों को कृष्ण बनाकर दिल्ली व देहरादून में बैठाया था वे आज धृतराष्ट्र बन गए हैं। केदारनाथ में सोने का पीतल बन गया है। जांच का पता ही नहीं है। उत्तरकाशी की घटना पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा सरकार बयानवीर बनकर रह गई है। 41 लोगों की जान सांसद में फंसी हुई है। नाम लिए बगैर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि साल में दो करोड़ युवाओं रोजगार देने का वादा करने वाले अब सेना में अग्निवीर योजना चलाकर युवाओं के भविष्य के खिलवाड़ करने पर आमादा हैं।

कांग्रेस के जिलाध्यक्ष मुकेश नेगी ने कहा कि मेला साल दर साल भव्यता की ओर बढ़ रहा है इसमें सुधार के साथ ही गुणवत्ता पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा हरीश रावत की ही देन है कि गौचर व कर्णप्रयाग को पालिका का दर्जा मिल पाया है। इसके बाद जितने भी मुख्यमंत्री आए वे स्टेडियम की घोषणा करते जा हैं जबकि यह जनता की मांग है ही नहीं।

इस अवसर पर राइका,बाइंका, सरस्वती विद्या मंदिर की छात्र छात्राओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। इस मौके पर 8 वीं वाहिनी के सैनानी हफीजुल्हा सिद्धकी के हाथों दो वीरांगनाओं को भी सम्मानित किया गया। समापन कार्यक्रम में कांग्रेस नगर अध्यक्ष सुनील पंवार,इंदू पंवार, विजय प्रसाद डिमरी, केदारनाथ के पूर्व विधायक मनोज रावत,ईश्वरी प्रसाद मैखुरी, रजनी लिंगवाल, अजय किशोर भंडारी, ताजबर कनवासी, मनमोहन पुंडीर, संदीप नेगी, संदीप पटवाल, सुनील शाह, लीला रावत, व्यापार संघ अध्यक्ष राकेश लिंगवाल, हरीश नयाल,के अलावा आई टी वी पी के डिप्टी कमांडेंट अशोक सिंह नेगी, मेलाधिकारी उपजिलाधिकारी कर्णप्रयाग संतोष कुमार पाण्डेय, तहसीलदार सुरेंद्र सिंह देव आदि बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!